Hindi moral stories for class 5:हिंदी नैतिक कहानियाँ 2024

Hindi moral stories for class 5

हिंदी नैतिक कहानियाँ पाँचवी कक्षा के छात्रों के लिए 

हिंदी साहित्य एक सुंदर खजाना है जिसमें रोचक कहानियाँ हैं जो केवल मनोरंजन ही नहीं करती, बल्कि मूल्यवान जीवन की  सीख भी देती हैं।

पांचवीं कक्षा के छात्रों के लिए इन कहानियों को पढ़ना एक आनंदमय और शिक्षात्मक अनुभव हो सकता है।

इस लेख में, हमने सर्वश्रेष्ठ हिंदी कहानियों की सूची तैयार की है जो पांचवीं कक्षा के छात्रों के लिए उपयुक्त हैं।

ये कहानियाँ केवल मनोरंजन ही नहीं प्रदान करती हैं, बल्कि नैतिक और सांस्कृतिक दृष्टिकोण भी प्रस्तुत करती हैं।

पंचतंत्र की कहानियाँ

    • ये अमर कहानियाँ ज्ञान की खजान हैं। “शेर और चूहा” और “चालाक खरगोश और शेर” जैसी हिंदी कहानियाँ महत्वपूर्ण नैतिक शिक्षा देती हैं।

Short moral stories in Hindi with moral


Hindi moral stories for class 5

1) चालाक खरगोश की कहानी

short moral stories for kids in hindi

hindi moral stories for class 5

प्रस्तावना:

यह कहानी है एक चालाक खरगोश की, जिसका नाम मनोहर था।

मनोहर एक बहुत ही बुद्धिमान खरगोश था और उसकी चालाकी की कहानी हमें यह सिखाती है कि बुद्धिमानी से किसी भी समस्या का समाधान किया जा सकता है।

कहानी:

एक बार की बात है, एक जंगल में एक चिड़िया और एक खरगोश रहते थे।

वे दोनों अच्छे दोस्त थे और एक-दूसरे के साथ अपनी बातें करते रहते थे।

एक दिन, चिड़िया बहुत चिंतित दिखाई दी। मनोहर खरगोश ने चिड़िया से पूछा, “दोस्त, तुम इतनी परेशान क्यों हो?”

moral story in hindi for kids

hindi moral stories for class 5

चिड़िया ने बताया, “मेरे पास अपने बच्चों के लिए खाने का कोई भी स्त्रोत नहीं है।”

मनोहर खरगोश ने तय किया कि वह चिड़िया की मदद करेगा।

उसने चिड़िया को अपनी चालाकी की कहानी सुनाई।

मनोहर ने चिड़िया से कहा, “मैं एक आदमी का खरगोश बन जाऊंगा और वह मुझे अपने खेत में खुदाई करने के लिए ले जाएगा।

जब वह खेत में खुदाई करेगा, तो तुम खुदाई के समय उसकी खेत में गिरा हुआ अनाज खाओगी।”

चिड़िया ने इस चालाकी को मान लिया और मनोहर खरगोश ने अपनी भूमिका निभाना शुरू किया।

hindi short moral stories

hindi moral stories for class 5

चिड़िया के साथ मिलकर, मनोहर खरगोश ने खेत में खुदाई करने वाले आदमी के सामने अपना काम किया

और खुदाई के दौरान अनाज गिराने लगा।

आदमी को यह देखकर दुख हुआ और उसने मनोहर खरगोश को अपने घर में बुलवाया।

मनोहर खरगोश ने अपनी चालाकी और बुद्धिमत्ता का पर्दाफाश किया और बताया कि वह चिड़िया की मदद कर रहा था ।

आदमी ने मनोहर की बुद्धिमत्ता की सराहना की और उसको अपने अनाज की बदले में खुदाई करने की इजाजत दी।

चिड़िया ने मनोहर की चालाकी का आभारी होकर उसको धन्यवाद दिया और उसे बताया कि उसकी मदद से उसने अपने बच्चों के लिए भोजन प्राप्त किया।

नैतिक सीख :in hindi stories

इस कहानी से हमें यह सिखने को मिलता है कि बुद्धिमानी से हम किसी भी समस्या का समाधान निकाल सकते हैं


Hindi moral stories for class 5

2) चींटी और हाथी – नैतिक कहानी

moral stories in hindi

प्रस्तावना:

यह कहानी है एक छोटी सी चींटी और एक बड़े से बड़े हाथी की, जिनमें बड़े होने के बावजूद अहंकार की कमी और सहयोग की महत्वपूर्णता की सिख है।

कहानी:

एक जंगल में, एक बड़े हाथी और एक छोटी सी चींटी दोस्त थे। हाथी का नाम गजेन्द्र था और वह बड़ा ही गर्व से अपनी भारी वजन और बड़े होने पर गर्व करता था। वह हमेशा यह सोचता था कि वह सबसे ताकतवर और महत्वपूर्ण है।चींटी नामक छोटी सी चींटी बहुत ही समझदार और सहयोगपूर्ण थी।

वह चाहती थी कि हाथी अपने अहंकार को छोड़कर सबके साथ और अधिक मिलकर रहें।एक दिन, जंगल में एक बड़ा सांप आया। सांप बहुत खतरनाक दिखाई देता था और वह अपने पेड़ में फंस गया। वह बहुत चिल्लाया और सहायता मांगा, लेकिन कोई उसकी सहायता नहीं कर रहा था।

गजेन्द्र हाथी ने सांप की मदद करने की कोई सोच तक नहीं की। वह सोचता था कि सांप खुद ही निकल लेगा और वह खुद को बचा सकेगा।

चींटी, जो हमेशा अपने दोस्त की चिंता करती थी, गजेन्द्र के पास गई और कहा , “क्या आप सांप की मदद कर सकते हैं?”

hindi naitik kahaniya

hindi moral stories for class 5

गजेन्द्र ने बड़े अहंकार से उत्तर दिया, “मुझे सांप की मदद करने की जरूरत नहीं है,  मैं बहुत बड़ा हूं और सांप बहुत छोटा है। वह अपने आप पेड़ से निकल  जाएगा।”

चींटी ने गजेन्द्र से कहा, “क्या आप यह नहीं चाहते कि सांप को बचाया जाए?

हम सबको साथ मिलकर सांप की मदद करनी चाहिए।”

गजेन्द्र ने आखिरकार चींटी की सलाह मान ली और वह और चींटी मिलकर सांप को बचाने में कामयाब रहे। सांप बहुत आभारी था और उन्होंने गजेन्द्र और चींटी को धन्यवाद दिया।

नैतिक सीख :in hindi stories

इस कहानी से हमें यह सिखने को मिलता है कि अहंकार और गर्व कभी भी किसी की मदद करने से रोक नहीं सकते हैं। हमें सहयोग का महत्व समझना चाहिए और हमेशा दूसरों की मदद करने को तैयार रहना चाहिए, चाहे हम छोटे हों या बड़े।


3) चालाक लोमड़ी – एक नैतिक कहानी

moral stories in hindi short

hindi moral stories for class 5,

प्रस्तावना:

यह कहानी है एक चालाक लोमड़ी की, जिसका नाम रानी  था।

इस कहानी से हमें यह सिखने को मिलता है कि चालाकी से लोगों को फुसलाना अच्छा नहीं होता और निष्कलंक ईमानदारी हमेशा सबसे बढ़िया रास्ता होता है।

कहानी:

एक छोटे से गाँव में एक बड़ा ही चालाक लोमड़ी निवास करती थी ,

जिसका नाम रानी  था। रानी  गाँव के लोगों के बीच में अपनी चालाकी के लिए प्रसिद्ध थी ।

एक दिन, गाँव के गरीब लोगों ने एक साधु बाबा को अपने गाँव में आने के लिए बुलाया।

बाबा गाँव में पहुँचे और गरीब लोगों ने उनसे कहा, “बाबा, हमारी समस्या का समाधान करें।

हमारे गाँव में बड़ी  ही चालाक लोमड़ी  है, जो हमें बेहद परेशान करती  है।”

बाबा ने गरीब लोगों से रानी के बारे में और अधिक जानकारी मांगी।

लोगों ने बताया कि रानी बड़ी ही धूर्त और चालाक है और उसे किसी भी तरह के कार्य में विशेषज्ञता है।

बाबा ने गरीब लोगों को उपाय बताने का फैसला किया। वह गरीब लोगों के साथ रानी  के पास गए और बाबा ने रानी  से कुछ सवाल पूछे।

बाबा ने पूछा, “रानी , तुम्हारे पास कितने पैसे हैं?”

hindi stories in hindi

hindi moral stories for class 5

रानी को लगा शायद गाँव के लोग उस से उधार लेने आए हैं  इसलिए रानी ने झूठ बोला, और कहा  “मेरे पास सिर्फ  पाँच सौ रुपये हैं।” बाबा ने एक काग़ज़ के टुकड़े को दिखाया और कहा, “मैं इस काग़ज़ के टुकड़े को तुम्हारे पैसों के साथ जोड़ सकता हूँ और तुम्हारे पैसे दोगुने हो जाएँगे।”रानी  ने तुरंत अपनी जेब से 5 हज़ार रुपए निकाले और काग़ज़ के टुकड़े को पैसों के साथ जोड़ दिया।

लालच  की वजह से रानी भूल गयी की उसने अपनी जेब से सारे पैसे बाहर निकल दिए , 

बाबा ने उसे दोगुने पैसे तो नहीं दिए बल्कि  गरीब लोगों से कहा, “यही है रानी  की चालाकी का सबक़ 

रानी  ने शरमसार होकर अपनी मूर्खता और लालच को स्वीकार किया  और अपनी चालाकी की बजाय ईमानदारी की ओर जाने का वचन दिया  ।

और  गाँव के  लोगों से माफ़ी  माँगी  

hindi moral stories for class 5

hindi moral stories for class 5

नैतिक सीख : hindi stories moral

इस कहानी से हमें यह सिखने को मिलता है कि चालाकी से किसी को फुसलाना या धोखा देना अच्छा नहीं होता। ईमानदारी हमेशा सर्वोत्तम रास्ता होता है। 

यह कहानी हमें यह भी सिखाती है कि ईमानदारी हमारे कार्यों के लिए हमें सम्मान और सदैव अच्छे लोगों के साथ खड़ा होने का मौका देती है।

चालाकी और लालच से नहीं, बल्कि सच्चाई और ईमानदारी से हम अपने जीवन में सफलता प्राप्त कर सकते हैं।


Hindi moral stories for class 5

4) मगरमच्छ और बंदर – नैतिक कहानी

hindi moral stories for class 5

hindi moral stories for class 5,

प्रस्तावना:

यह कहानी है एक मगरमच्छ और एक बंदर की, जो हमें यह सिखाती है कि दोस्ती और मिलकर काम करने से हम समस्याओं का समाधान कर सकते हैं।

कहानी:

Hindi Moral Stories for class 5

एक बार की बात है, एक बंदर और एक मगरमच्छ एक जंगल में रहते थे। वे बहुत अच्छे दोस्त थे और हमेशा एक साथ खेलते थे।

एक दिन, जंगल में बहुत बड़ी समस्या आई।

जंगल के जानवर थक गए थे क्योंकि जंगल में पानी की कमी हो रही थी।

सभी जानवर प्यासे थे और उन्हें प्यास बुझाने के लिए कोई उपाय नहीं मिल रहा था।

बंदर और मगरमच्छ ने देखा कि उनके जंगल में एक छोटा सा कुआँ है,

लेकिन कुआँ के किनारे खुदाई की आवश्यकता है ताकि पानी मिल सके।

hindi moral stories for class 5

दोनों ने मिलकर तय किया कि वे कुआँ खुदाई करेंगे ताकि सभी जानवर प्यास बुझा सकें।

बंदर और मगरमच्छ ने मिलकर कुआँ की खुदाई करने का काम शुरू किया।

वे धीरे-धीरे खुदाई करते गए और समय-समय पर एक-दूसरे की मदद करते थे।

moral stories in hindi

hindi moral stories for class 5

थोड़ी दिनों  बाद, जब खुदाई पूरी हो गई, तो कुएँ  से पानी निकलने लगा। सभी जानवर खुशी-खुशी प्यास बुझाने लगे।

बंदर और मगरमच्छ ने एक साथ काम करके जंगल के जीवों की मदद की और एक समस्या का समाधान प्राप्त किया।

हम और सबके लिए सच्ची मित्रता का उदाहरण पेश किया 

moral stories in hindi for class 5

Hindi Moral Stories for Class 5

नैतिक सीख : hindi stories moral

इस कहानी से हमें यह सिखने को मिलता है कि दोस्ती और मिलकर काम करने से हम समस्याओं का समाधान कर सकते हैं। जब हम एक-दूसरे की मदद करते हैं और साथ में काम करते हैं, तो हम समस्याओं को पाने में सफल होते हैं।

यह कहानी हमें यह भी सिखाती

 है कि हमें समस्याओं के समाधान के लिए आपसी सहायता का सहारा लेना चाहिए और विवेकपूर्ण और ईमानदारी तरीके से काम करना चाहिए।


Hindi moral stories for class 5 , Inspiration hindi stories 

पढ़ें महाभारत की नैतिक कहानी  :

Hindi Moral Stories for class 5

ये हिंदी कहानियाँ न केवल मनोहर हैं, बल्कि शिक्षात्मक भी हैं, इसलिए पांचवीं कक्षा के छात्रों के लिए उपयुक्त हैं।इन्होंने बच्चों को भारतीय संस्कृति, इतिहास, और दर्शन का अवसर प्रदान किया है, साथ ही महत्वपूर्ण जीवन कौशल जैसे ज्ञान, चालाकी, नैतिकता, और साहस को सिखाया है।बच्चों को इन कहानियों की खोज करने की प्रोत्साहन देना न केवल उनकी भाषा कौशल में सुधार करेगा, बल्कि उनके दृष्टिकोण को विस्तारित करेगा और उन्हें उनके जीवन के लिए मूल्यवान मूल्यों का सारांश करेगा,जो उनके जीवन भर उनके साथ रहेगा। तो, इन मनोहर कहानियों की दुनिया में डूबकर कहानी सुनाने का जादू देखें और आपके बच्चे की शिक्षा यात्रा को धन्यमान बनाने के लिए कहानियों  का आनंद लें

Hindi Moral Stories for class 5  की तरह हम सभी कक्षाओं के लेख भी पोस्ट करते रहेंगे

Leave a Comment