Cyber crime complaint:जानिए कैसे आपका पैसा जल्दी मिलेगा वापिस ?

Cyber crime complaint:भारत में क्यों बढ़ रहा है साइबर क्राइम ?

अखबार और न्यूज़ चैनल के जरिए अक्सर हम और आप ऑनलाइन फ्रॉड के कई केस देखते हैं। कुछ लोगों के साथ तो ये घटना हो भी चुकी होगी। जितना हम डिजिटल वर्ल्ड में आगे बढ़ रहे हैं, देश में उतने डिजिटल फ्रॉड के अलग-अलग तरह के केस देखने को मिल रहे हैं। अभी हाल ही घटना आपके साथ शेयर करना चाहता हूं। मेरे मैसेज इनबॉक्स में किसी Unknown नंबर से PayTm अकाउंट से जुड़ा मैसेज आता है और साथ में एक लिंक भी आता है। संबंधित प्लेटफॉर्म के कस्टमर केयर पर बात करते पर मालूम होता है कि यह एक फ्रॉड मैसेज था।

हाल ही में WhatsApp द्वारा इंटरनेशनल स्पैम कॉल्स के कईं केस देश में रिपोर्ट हुए हैं। संबंधित मिनिस्टरी ने भी इस पर अपनी प्रतिक्रिया जाहिर की है। ऐसे कईं तरह के स्कैम हमारे देश में चल रहे हैं। इन पर वेब सीरीज़ भी बन चुकी है लेकिन ये घटनाएं बदस्तूर जारी है। एक रिपोर्ट के अनुसार,  2021-22 के फाइनेंशियल ईयर में करीब 128 करोड़ रुपये के ऑनलाइन फ्रॉड के मामले सामने आए हैं। नेशनल साइबर सिक्योरिटी कोर्डिनेटर के अनुसार, देश में हर रोज करीब 3500 ऑनलाइन फ्रॉड के केस सामने आते हैं। किस तरह के आॉनलाइन फ्रॉड हमारे देश में फल-फूल रहे हैं। इस तरह के स्कैम को कैसे खुद से बचा सकते हैं। आइए जानते हैं।

  1. फ़ीशिंग: फ़ीशिंग एक डिजिटल स्कैम है जिसमें धोखाधड़ी करने वाले व्यक्ति या संगठन नकली ईमेल, मैसेज या वेबसाइट का उपयोग करके पर्सनल या वित्तीय जानकारी की मांग करते हैं। यह जानकारी जैसे बैंक खाता डिटेल्स, पासवर्ड, क्रेडिट कार्ड से जुड़ी जानकारी आदि को प्रदान करने के लिए होती है। नेटफ्लिक्स पर आई एक वेबसीरीज़ ‘जामताड़ा’ फीशिंग से ही जुड़ी है।
  2. ऑनलाइन धोखाधड़ी: जब लोग ऑनलाइन शॉपिंग, वेबसाइट या ऐप्लिकेशन पर फेक लिंक्स, नकली ऑफर्स या धोखेबाजी की खबरों के माध्यम से धोखाधड़ी के शिकार होते हैं। इसके फलस्वरूप उनकी व्यक्तिगत या वित्तीय जानकारी चोरी हो सकती है।
  3. मोबाइल फ़ोन या ईमेल स्कैम: इसमें क्रैमर्स लोगों को कॉल करके या ईमेल भेजकर उन्हें विभिन्न धोखेबाजी कार्यों में शामिल होने के लिए प्रेरित करते हैं, जैसे कि किसी फ़र्ज़ी कॉल केंद्र में नौकरी या लॉटरी जीतने का वादा करके पैसों का मांग करना।
  4. कंप्यूटर वायरस और मैलवेयर: कंप्यूटर वायरस और मैलवेयर के माध्यम से हमेशा नए तकनीकी साधन विकसित हो रहे हैं जो उपयोगकर्ताओं के कंप्यूटरों में आक्रमण कर सकते हैं। इससे उनकी व्यक्तिगत और वित्तीय जानकारी चोरी हो सकती है।
  5. उधार लेने के स्कैम: इंटरनेट पर धोखाधड़ी करने वाले लोगों को लोन देने का वादा करते हैं, लेकिन उन्हें पहले नकली शुल्क और शर्तों का भुगतान करने की मांग की जाती है। इस तरह से उनके साथ फ्रॉड हो जाता है।
  6. सोशल मीडिया से जुड़ा स्कैम : आजकल फेसबुक, इंस्टाग्राम और अन्य सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म के सहारे तमाम तरह के स्कैम किए जा रहे हैं। लोगों की आईडी को हैक करके उनके दोस्तों को मैसेज करके पैसों की मांग की जाती है। इसके अलावा कुछ लोग फेसबुक में ‘हनीट्रैप’ में फंसकर हजारों रुपये गवां चुके हैं। ऐसे तमाम केस हमारे देश में लगातार बढ़ रहे हैं।

Cyber crime complaint:ऑनलाइन फ्रॉड से कैसे बचें ?

  1. किसी भी अज्ञात स्रोतों से ईमेल, संदेश या कॉलों पर विश्वास ना करें।
  2. अपनी पर्सनल और वित्तीय जानकारी को सुरक्षित रखने के लिए अपने कंप्यूटर, मोबाइल फ़ोन और अन्य डिजिटल उपकरणों में अच्छी डिजिटल सुरक्षा का इस्तेमाल करें।
  3. मोबाइल में बेवजह के एप्लिकेशन डाउनलोड ना करें।
  4. किसी भी सूरत में अपना OTP किसी भी संदिग्ध व्यक्ति के साथ शेयर ना करें। 
  5. अपने सगे-संबंधियों खासकर माता-पिता को समय-समय पर डिजिटल स्कैम के बारे में बताते रहें। स्कैम करने वाले लोग सबसे ज्यादा बड़े-बुजुर्गों को अपना शिकार बनाते हैं।
  6. किसी भी संदिग्ध लिंक पर क्लिक ना करें। 
  7. क्रेडिट कार्ड, मेडिकल इंश्योरेंस और डेबिट कार्ड की एक्सपाइरी के नाम पर किसी को भी अपनी पर्सनल जानकारी ना बताएं। 
  8. आजकल सस्ते Rent के चक्कर में एडवांस पेमेंट लेकर फ्रॉड हो रहा है। इससे बिल्कुल बचें। स्कैम करने वाले लोग अपना फर्जी आधार कार्ड और Employee कार्ड दिखाकर आपसे पैसा ऐंठते हैं। ऐसे लोगों से बचें। 
  9. पुरानी चीज़ों जैसे- बाइक, कार, इलेक्ट्रॉनिक आइटम्स और गैजेट्स खरीदने के चक्कर में एडवांस पेमेंट बिल्कुल ना दें। हेंड टू हेंड पेमेंट करें। 

Cyber crime complaint:ऑनलाइन फ्रॉड होने पर क्या करें ?

  1. अगर आप ऑनलाइन फ्रॉड का शिकार होते हैं, तो आपको सबसे पहले संबंधित प्लेटफॉर्म पर शिकायत करनी चाहिए। जैसे अगर PayTm, GooglePay, PhonePay, Cred या अन्य किसी UPI द्वारा आपके साथ फ्रॉड हुआ है तो आपको तुरंत उनकी हेल्पलाइन पर कॉल करके शिकायत दर्ज करनी चाहिए। उसके बाद नजदीक पुलिस, साइबर सेल और बैंक में शिकायत दर्ज करनी चाहिए। अगर आप तत्काल प्रभाव से बैंक और थाने में शिकायत दर्ज करते हैं, आपके अकाउंट में अगले 10 दिनों में पूरे पैसे वापस आ सकते हैं।
  2. अगर आप शहर से बाहर है तो ऑनलाइन मोड से भी शिकायत दर्ज कर सकते हैं। इसके लिए https://www.cybercrime.gov.in/ पर क्लिक करना होगा।
  3. होम मिनिस्ट्री और दिल्ली पुलिस की साइबर सेल ने 155260 हेल्पलाइन शुरू किया है। अगर आप किसी भी तरह के ऑनलाइन फ्रॉड के शिकार होते हैं तो तुरंत इस नंबर पर कॉल करें। आपकी शिकायत पर त्वरित कारवाई होगी।
  4. अगर आपकी शिकायत पर 2-4 दिनों में संतोषजनक एक्शन नहीं लिया जाए तो आपको इसकी शिकायत रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया यानि आरबीआई में करनी चाहिए। https://rbi.org.in/Scripts/Complaints.aspx पोर्टल पर जाकर अपनी शिकायत दर्ज करें।
  5. आपको ये जानकर हैरानी होगी कि हम सभी के बैंक खाते insured होते हैं यानि इसका इंश्योरेंस हुआ होता है। अगर किसी भी तरह का स्कैम हमारे साथ हुआ है तो बैंक की यह जिम्मेदारी है कि वो पूरा पैसा लौटाए। बर्शतें आपको ऑनलाइन फ्रॉड होने के 24 घंटों के अंदर अपनी शिकायत दर्ज करनी होगी।

आपके खातों की सुरक्षा का जिम्मा सबसे पहले आपके हाथ में है। किसी भी ऑनलाइन फ्रॉड से बचने के लिए हर वक्त अपडेट रहें और संबंधित विभागों की जानकारी रखें। अगर आपके साथ भी कोई ऐसी घटना हुई है तो कृपया कमेंट बॉक्स में शेयर करें। इससे बाकी लोगो को भी मदद मिलेगी।  

Leave a Comment