Mahatma Gandhi story in hindi: नहीं सुनी महात्मा गांधी से जुड़ी ऐसी कहानियां

Mahatma Gandhi story in hindi

महात्मा गांधी जी सिर्फ एक इंसान नहीं बल्कि एक विचार है। उनके द्वारा बताए गए रास्तों पर चलकर हम सभी अपने लक्ष्य की प्राप्ति कर सकते हैं। आज हम आपको उनसे जुड़ी वो कहानियां बता रहे हैं जिनका प्रमाण तो हमारे पास नहीं है लेकिन इन कहानियों से शिक्षा लेकर हम अपने जीवन को सुधार सकते हैं। 

1. गांधी जी और गरीब बूढ़ी महिला

एक बार गांधी जी किसी गांव में जा रहे थे। रास्ते में उन्हें एक गरीब बूढ़ी महिला मिली। वह रो रही थी। गांधी जी ने उससे पूछा, “तुम्हें क्या हुआ, माताजी?”
बूढ़ी महिला ने बताया कि उसके पास खाने के लिए कुछ नहीं है। उसके पति की मृत्यु हो चुकी है और उसके बच्चे बहुत छोटे हैं। गांधी जी ने उसकी बात सुनकर उससे कहा, “माताजी, तुम चिंता मत करो। मैं तुम्हारी मदद करूंगा।”
गांधी जी ने पास के गांव वालों को बुलाया और उनसे कहा कि वह इस गरीब बूढ़ी महिला की मदद करना चाहते हैं। गांधी जी ने उनसे कहा कि वे इस महिला को कुछ खाने-पीने का सामान दें और उसकी मदद करें। गांव वालों ने गांधी जी की बात सुनकर बूढ़ी महिला को कुछ खाने-पीने का सामान दिया और उसकी मदद करने का वादा किया।

 

Mahatma Gandhi story in hindi

2. गांधी जी और चोर

एक बार गांधी जी सो रहे थे। तभी एक चोर उनके कमरे में आया। चोर ने गांधीजी की घड़ी चुरा ली और जाने लगा।
गांधी जी की नींद खुल गई। उन्होंने चोर को देखा और उसे बुलाया। चोर डर गया। वह सोचने लगा कि गांधीजी उसे पुलिस के हवाले कर देंगे।
लेकिन गांधी जी ने ऐसा नहीं किया। उन्होंने चोर को अपनी घड़ी वापस दे दी और उससे कहा, “तुम्हें भूख लगी होगी। मैं तुम्हें कुछ खाने-पीने के लिए दूंगा।”
चोर बहुत हैरान हुआ। उसने गांधी जी से कहा, “आप इतने अच्छे क्यों हैं? आपने मुझे पुलिस के हवाले क्यों नहीं किया?”
गांधी जी ने कहा, “मैं तुम्हें समझता हूं। तुम भूखे हो, इसलिए तुम चोरी कर रहे हो। मैं तुम्हें खाना दूंगा और तुम चोरी नहीं करोगे।”
चोर ने गांधी जी की बात सुनकर रोना शुरू कर दिया। उसने गांधी जी से कहा कि वह अब चोरी नहीं करेगा। गांधी जी ने उससे कहा, “मैं तुम पर भरोसा करता हूं। मुझे पता है कि तुम अपनी बात रखोगे।”
चोर ने गांधी जी की बात मानी और उसने कभी चोरी नहीं की।

हिंदी नैतिक कहानियाँ,अभी पढ़ें 

3. गांधीजी और कुत्ता

एक बार गांधी जी किसी गांव में जा रहे थे। रास्ते में उन्हें एक कुत्ता मिला। कुत्ता लंगड़ा रहा था। गांधी जी ने कुत्ते के पैर में चोट देखी। उन्होंने कुत्ते को गोद में उठा लिया और उसे अपने साथ ले गए।
गांधी जी ने कुत्ते के पैर का इलाज किया। कुत्ता ठीक होने लगा। गांधीजी ने कुत्ते का नाम “प्यार” रखा।
प्यार गांधी जी के साथ रहने लगा। वह गांधी जी से बहुत प्यार करता था। गांधी जी भी प्यार से बहुत प्यार करते थे।
एक दिन गांधी जी और प्यार किसी जंगल में जा रहे थे। रास्ते में उन पर कुछ लोगों ने हमला किया। गांधीजी और प्यार दोनों घायल हो गए।
प्यार ने गांधीजी को बचा लिया। वह हमलावरों पर भौंकने लगा और उन्हें दूर भगा दिया।
गांधी जी प्यार के बहुत आभारी थे। उन्होंने प्यार से कहा, “धन्यवाद, प्यार। तुमने मेरी जान बचाई।”

Mahatma Gandhi story in hindi, और  पढ़ें 

4. गांधी जी और बच्चे

गांधीजी बच्चों से बहुत प्यार करते थे। वह अक्सर बच्चों के साथ खेलते थे और उन्हें पढ़ाते थे।
एक बार गांधीजी किसी स्कूल में गए। उन्होंने बच्चों से कहा, “बच्चो, तुम भारत का भविष्य हो। तुम देश को आगे बढ़ाओगे।”
गांधी जी ने बच्चों को सत्य, अहिंसा और शांति का पाठ पढ़ाया। उन्होंने बच्चों को कहा कि वे हमेशा दूसरों से प्यार करें और उनका सम्मान करें।

Mahatma Gandhi story in hindi 

 

Leave a Comment